बुधवार, 28 अप्रैल 2010

मेरी कविता... बदल गया... सब कुछ बदल गया....

कुछ इस तरह मेरे जीने का अंदाज बदल गया
बस धरती बदल गयी कुछ अम्बर बदल गया...

वह और बात थी जब जब सारे एक थे
अब तो भैया ज़माना बदल गया

सुदामा आ गया है आज फिर से कृष्ण के घर पर
बेचारे को क्या पता कृष्ण का पता बदल गया...

मेरे कुछ दोस्त आज हैरान थे..
मैंने पूछा क्यों बोले नजरिया बदल गया...

और चंद रोज़ पहले तक वो खास था मेरा
आज शाम ही पता चला की उसने दल बदल लिया..

मैं फिरता हूँ दर-बदर इस दुनिया का भीड़ में
सुनता हूँ तो कुढ़ता हूँ यही सोच सोच कर
... की उसने भी अपना घर बदल लिया..

-देव

9 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

बदल गया..बढ़िया है जी!!

Bhagalpuri ने कहा…

bhai abhi Sadi nahi huaa hai
Abhi tak to hum sab Badle nahi hai.
Abhi Bhe hum sub me wo Piyar dikhta hai
Lakin sadi ke baad sub ????
Wife Ke piyar me Kutta Se Kamina ban jaye ge

Bhai Kabita to aap La Jabab Likhate hai

Thank's
vivek

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत खूब .जाने क्या क्या कह डाला इन चंद पंक्तियों में

Shekhar Kumawat ने कहा…

bahtrin bahut khub

PRATUL ने कहा…

सचमुच 'बदल गया' लाजवाब है.
बदलाव परिस्थितियाँ लाया करती हैं लेकिन जब मूल स्वभाव बदलने लगे तो मन को सालता है. पता बिन बताये अगर कोई बदल ले तो बुरा लगता है.

अगर सुदामा कृष्ण के घर पर आ गया तो कृष्ण का पता बदलने की बात कैसे सोची जा सकती है. इसे यों कहें :

सुदामा आ गया कृष्ण के पुराने पते पर
बेचारे को क्या पता, अब उनका पता बदल गया.

आज के समय में अपनी संगृहीत सूचनाओं को अपडेट करते रहना चाहिए. यह आज की जरूरत है.

क्या मालूम कल को आप भी अपने फ़ोन नंबर और इ-मेल एड्ड्रेस को बदलना चाहें. जब मैं बार-बार जबरन संपर्क बनाने की कोशिश करने लगूँ.

सुदामा यदि कोई इच्छा लेकर कृष्ण के घर पर जाएगा तो कृष्ण भागता ही फिरेगा ना.

और आज का कृष्ण सचमुच सामर्थ्यवान होगा तो सुदामा जैसे कई ज़रुरतमंदों को रोजगार से लगा देगा. उसे बार-बार पता बदलने की जरूरत नहीं होगी.

Bhagalpuri ने कहा…

Hi

PRATUL,
I am vivek in delhi and friend's of Dev
AAP ke Comment sahi me lajabab hai
I Respact your comment

Vivek

राजेन्द्र मीणा ने कहा…

एक अच्छी कविता आप लिखे और हमारी नज़रों से बच जाए ऐसा नहीं हो सकता .......एक सुन्दर प्रस्तुति ....बस आगे भी कलम को चलाते रहिये

http://athaah.blogspot.com/

राजेन्द्र मीणा ने कहा…

वह और बात थी जब जब सारे एक थे
अब तो भैया ज़माना बदल गया

सुदामा आ गया है आज फिर से कृष्ण के घर पर
बेचारे को क्या पता कृष्ण का पता बदल गया...

मेरे कुछ दोस्त आज हैरान थे..
मैंने पूछा क्यों बोले नजरिया बदल गया...

दुबारा आपकी रचना पढ़ी ....और लाजवाब लगी ....फिर बधाई

http://athaah.blogspot.com/

E-Guru Rajeev ने कहा…

हा हा हा
कृष्ण का ही पता बदल दिया.