शुक्रवार, 2 सितंबर 2016

कैमडन एडवेंचर एक्वेरियम

बच्चे बड़े हो जाते हैं लेकिन हमारी नज़र में तो वह बच्चे ही रहते हैं न... कल हम पेंसिल्वेनिया के बॉर्डर पर बने कैमडन एडवेंचर एक्वेरियम गए तब वहाँ आदि की कूद फाँद ने हमारा खूब मनोरंजन किया... ख़ास तौर पर शार्क टनल में जो एक ऐसी जगह जहाँ पानी के बीचों बीच सीशे की सुरंग में आप हर ओर से शार्क को देख सकते हैं।


आदि ने पहले तो खूब शार्क देखे फिर बोला पापा चलो ऊपर चलो, ऊपर से उसका मतलब था कि अब उसे शार्क को ऊपर से देखना था.. मैं तो पहले ही आदि को लेकर डरा हुआ रहता हूँ सो मैंने मना कर दिया लेकिन फिर आदि की जिद्द पर ऊपर शार्क ब्रिज पर आया.. यह एक रस्सी का पुल जो शार्क के पिंजड़े के ऊपर एल शेप में बनाया हुआ है और आप उस झूलते हुए रस्सी के पुल पर इस पार से उस पार जा सकते हैं... आदि बोला लेटस गो पापा.. आदि सबसे आगे उसके पीछे मनीषा और सबसे पीछे मैं और आराम से आदि अपने पैर टिकाते हुए धीरे धीरे आगे बढ़ता गया और पूरा ट्रिप पार किया.. जब हमारा ट्रिप पार हुआ तब अटेंटेण्ड ने कहा कि आदि आज के दिन का इस ब्रिज पर सबसे छोटा बच्चा था लेकिन बहुत अच्छे से पार किया सो "वैरी गुड एंड ब्रेव बॉय"। ट्रिप पूरा होने के बाद यह फोटो लिया गया....





हमारा रास्ता और अपने सिंहासन पर विराजमान आदि महाराज 



दरियाई घोड़े (सी-हॉर्स)
(जेली-फिश)
गौरैये 
न्यूजर्सी और पेंसिल्वेनिया के बीच बेंजामिन फ्रैंकलिन सस्पेंसन ब्रिज 

कोई टिप्पणी नहीं: