मंगलवार, 17 अगस्त 2010

आराम हराम है.... ही ही.... :-देव

मालिक की जय हो... चाचा नेहरु बोल गये थे की आराम हराम है.... ऊ जानते नहीं ना थे की बहु-राष्ट्रीय कम्पनियों की दुनियां में वईसे भी आराम हराम ही है। ससुरा सोनें का टाईम नहीं और टेंशन इत्ती की का बताबैं....

बस देव बाबा ब्लागिंग से इत्ता बडका ब्रेक तो बहुत दिन के बाद लिए भाई..... बियाह के टाईम पर ब्लागिंग बन्द ना किये.... मगर आज कल बात कुछ अजीब है भाई। आई टी इंडस्ट्री ज़िन्दाबाद..... बोले तो हिन्दुस्तानी आई टी इंडस्ट्री ज़िन्दाबाद.............

वईसे १५ अगस्त आया..... हम भी झंडा फ़हराए..... बोले तो हिन्दुस्तान ज़िन्दाबाद। बीच में हिन्दुस्तान की क्रिकेट टीम दू सौ रन से हारी..... गज्जब रेकार्ड बना भाई। देव बाबा ना क्रिकेट देखे..... आज भोरे न्यूज़ देखे तो समझ आया की सहवाग का शतक ऊ नो-बाल फ़ेंक कर गडबडा दिया..... ई कौन बात हुआ भाई। स्पोर्ट स्पिरिट का एकदम बैंड बजा दिये भाई। बस आज देव बाबा सही टाईम पर घर आए.... बहुरिया के साथ थोडा बाहर गये.... शापिंग किए.... अऊर आजे रियलाईज़ हुआ की हम शादी शुदा हैं.... ही ही.... मजाक नहीं कर रहे हैं भाई। आज कल नौकरिया बहुत भारी पड रही है। ऊ गनवा है ना..."तेरी दो टकिया दी नौकरी ते मेरा लाखों का सावन जाए" बस कुछ अईसा ही था भाई।

वईसे ई वीक-एण्ड पर मनीषा जी के साथ लम्बी ड्राईव पर गये थे..... लीजिए एक फ़ोटुआ देखिए.....


सडक पर ही बईठे हैं देव बाबू और मनीषा जी। हाथ मे कुरकुरे का पैक है...... चारो तरफ़ की हरियाली के बारें में क्या बताऊं..... बरसात में बहुत अच्छा मौसम था। वाह.... मन को आनन्दित करनें वाली शान्ति... दो सप्ताह की थकान को दूर करनें के लिए यह आऊटिंग बहुत ज़रूरी थी भाई।


चलिए आशा करते हैं की आफ़िस की टेंशन कुछ कंट्रोल में रहेगी और देव बाबा की क्रिएटिविटी बरकरार रहेगी।

-देव

10 टिप्‍पणियां:

शिवम् मिश्रा ने कहा…

अरे तुम तो मज़ा से घूम रहे हो ............हम तो सोचे थे पट्टी उट्टी करवा के आराम कर रहे होगे !
बहुरिया सस्ते में छोड़ दी है बबुया तोका !!

उन का ख़याल रखे का चाहि नहीं तो सोच के रखी दोनों कानो के बीच में तोहार सर कर देब हम..........का समझे !!??


अरे देव बाबु .........अब बाबा नहीं रहे तुम सो नौकरी और घर बार में जल्द से जल्द तालमेल बैठा लो !

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सही देव बाबू....कौनो जरुरत भी नहीं है चिन्ता करने का..ईंहा सब जान रहे हैं कि नई नई महरारु आई है त देव बाबू व्यस्त हैं...बहुरिया का ख्याल रखो और जेतन दिख जाओ, उतना ही काफी. :)

शिवम् मिश्रा ने कहा…

एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

ललित शर्मा-للت شرما ने कहा…

बढिया है,अभी घुमते रहीए, आउटिंग किजिए।
फ़िर बाद में हमारे जैसे तीर्थ यात्रा पर चलिए।

जय हो।

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

देव बाबू, आप उहाँ बैठ हर कुरकुरा खा रहे हैं और इहाँ देस भर का काम पैंडिंग पडा है। कोई नहीं, कभी कभार तो फुर्सत मिलती है।
शुभकामनायें!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

प्यारी जोड़ी,
आनन्द में वीकएण्ड बिताये।
शुभकामनायें।

कामरूप 'काम' ने कहा…

नमस्कार,

हिन्दी ब्लॉगिंग के पास आज सब कुछ है, केवल एक कमी है, Erotica (काम साहित्य) का कोई ब्लॉग नहीं है, अपनी सीमित योग्यता से इस कमी को दूर करने का क्षुद्र प्रयास किया है मैंने, अपने ब्लॉग बस काम ही काम... Erotica in Hindi. के माध्यम से।

समय मिले और मूड करे तो अवश्य देखियेगा:-

टिल्लू की मम्मी

टिल्लू की मम्मी ९२)

Akhtar Khan Akela ने कहा…

araam hraam he guzre kl ki baat he aaj to araam he to jhaan he . akhtar khan akela kota rajstha

Divya ने कहा…

.
बहुरिया को नज़र न लग जाये....काला टीका लगा दीजिये.
.

रंजना ने कहा…

WWWWWWAAAAAAAHHHH.....