सोमवार, 7 जून 2010

बरखा रानी ज़रा जम के बरसो.... :-देव

आज रपट जाए तो हमें ना उठइयो.... .... आज इन लाइनों को सुनकर बहुत कुछ याद आ गया.... खी खी... मजाक नहीं कर रहा हूँ भाई.... देव बाबा आज कुछ विशेष मूड में हैं और इस बरसाती रंग में कुछ शरारत करने का तो अपना ही मजा है भाई.... आज पवई के ट्राफिक ने समझिए जान ही निकाल दी थी, और फिर ऐरोली में नवी मुम्बई नगर पालिका ने एक रास्ता खोद रखा है और आवन जावन एक ही लेन से होने के कारण ट्राफिक के बारह बजे रहते हैं... आज बारिश हुई थी सो बंधुओ कल्पना कर लो हालत क्या होगी.... रेडिओ में गाना सुन रहा था और आज कल के आधुनिक ऍफ़ एम् चैनलों पर धिन-चक धिन-चक के अलावा कुछ और आ ही नहीं रहा था.... स्टेसन चेंज किया और फिर आकाशवाणी लगाया तो उसमे गाना आ रहा था... "आज रपट जाए तो हमें ना उठइयो" भाई वाह.... आज कल के दौर में भी आकाशवाणी आकाशवाणी ही है.... इसका कोई तोड़ नहीं....|

वैसे कल सुबह की पोस्ट के बाद देव बाबा एकदम गायब हो गए थे, ना चिठ्ठाजगत पर दिखे और ना ही ब्लोग्वानी पर.... हमरे भाई शिवम् मिश्रा और संजय भास्कर दोनों पकड़ने का बहुत प्रयास किये मगर देव बाबा पकड़ में नहीं आये... बाद में बताऊंगा की कहाँ गया था.... और शिवम् भैया यहाँ रहस्य खोलने की ज़रूरत नहीं है.... चुप्पे रहना... नहीं तो जान ही रहे हो... अभी अभी उड़न दद्दा के ब्लॉग पर बेलन देख कर अपनी भावी सूरत देख कर सदमे में हूँ और सदमे से बाहर निकल नहीं पा रहा हूँ.... :) चलो कोई बात नहीं अभी कुछ दिन आज़ादी के बाकी हैं.... बाद की बाद में देख लेंगे....

और बकिया तो सब ठीके बा, इहाँ उहाँ देश दुनिया में सब शांति बा, कोनो दिक्कत नइखे बानी, बरखा ठीक होए के आसार लागत बानी आर आगाज़ ता ठीके लागत बा, बनारस में पनिया बरसे तब बात होए, इहाँ तो मुम्बैये में बरसिहै... बनारस में ता आजो बयालीस डिग्री रहल.... घामे में देह झुर्सा जात होइहैं... ला है इ गीत बरखा पर... बरखा रानी ज़रा जम के बरसो....



-देव

11 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

ई तो देव बाबा को ट्र्लर दिखाये हैं बेलन का फोटू दिखा कर...जल्दी ही खुदे पूरी फिल्म जान जाईयेगा...हम का कहें. :)

तब तक जितना रपटने का मन करे, आकाशवाणी लगा कर रपट लिजिये..बाद में रपट की जगह पटक- पटके जायेंगे. :)

M VERMA ने कहा…

बहुत बढिया देव बाबू

महफूज़ अली ने कहा…

बहुत ग़ज़ब की पोस्ट लिखी आज देव बाबा ने.... हम भी बारिश की बाट जोह रहे हैं....

माधव ने कहा…

it is raining in Delhi

शिवम् मिश्रा ने कहा…

हम बोलेगा तो बोलोगे के बोलता है .....................ईश लिए होम कूष नोही बोलेगा !

E-Guru Rajeev ने कहा…

कुछ दिन आज़ादी के !!!!!!!!

संगीता पुरी ने कहा…

अब सचमुच बारिश की जरूरत है !!

संजय भास्कर ने कहा…

geet to majedaar hai bhai........

संजय भास्कर ने कहा…

आज रपट जाए तो हमें ना उठइयो" भाई वाह...
भाई वाह...
भाई वाह...
भाई वाह...

राम त्यागी ने कहा…

बढ़िया रहा

Bharat ने कहा…

गजब आदमी हो यार देव बाबू... ये बेलन का चक्कर समझ नहीं आया.